Welcome

Welcome
Diya Sain is India's one of the best Indian Women Kushti wrestler of present day scoring 60 medals at a short span. She is from a family of wrestlers. Her father Suraj Pahalwan and Grand father Sh. Rajinder Singh of Village Purbalian, District Mujaffar Nagar Uttar Pardesh , were also very fine wrestlers of their time. Suraj Pahlwan wanted to make his son Dev Sain a good wrestler. Divya followed on the footsteps of her brother at a very young age . Although from a fortune less family , she went on to become a champion in India.

Friday, January 2, 2015

Men vs Women : Divya Sain vs Rinku Sherpur, Uttar Pardesh


This is traditional Kushtiwrestling match between Divya Sain vs Rinku of Sherpur. When no women wrestler came  to fight with her, Rinku a male wrestler accepted Divya's Challenge.  The crowed expected a good show between bot of them. Rajinder Pahlwan of Village Firojpur, Tahseel Khurja , Destrict Bulandshahar , organises this annual event in the memory of Late IAS officer , Shri Narender ji . He himself declared a cash prize of Rs. 21000/- on the bout.  It was one of the best matches of the event. The kushti started with much fanfare, when Divya Sain attacked on legs , Rinku countered and used a foul Move, the referee noticed and stopped . The match started again , both wrestler weighed each other, used all their might to secure a pin. After the time allotted lapsed the referee declared them equal.    

ये कुश्ती दिव्या सैन और रिंकू शेरपुर के बीच हैं। जब दंगल में महिला पहलवान नहीं पहुंची तो उन्होंने अपना खेल दिखाने के लिए पुरुष पहलवानो को भी चुनौती दे दी।  रिंकू शेरपुर ने दिव्या की चुनौती स्वीकार कर कुश्ती दिखाने का फैसला किया तो मैदान में बैठे हज़ारों दर्शकों ने तालियाँ बजा कर दोनों पहलवानो का स्वागत किया और एक अच्छी कुश्ती देखने की आस जगाई।  राजिंदर पहलवान रेलवे में कार्यरत हैं , और अपने गाँव फिरोज़पुर तहसील खुर्जा , डिस्ट्रिक्ट बुलंद शहर , उत्तर प्रदेश में स्वर्गीय श्री  नरेंदर  आईएएस  की याद में प्रतिवर्ष  विशाल दंगल कराते हैं।  दंगल की शानदार कुश्तियों में से एक कुश्ती ये भी रही।  राजिंदर पहलवान ने स्वयं इस कुश्ती पर  21000 /- का नकद पुरष्कार रखा।  मैदान में बैठे दर्शकों की तालियों और  शोरगुल के साथ कुश्ती  की शुरुआत हुई , दिव्या ने पट  खींचने का प्रयास किया तो रिंकू ने पीछे हटकर बचाव कर फ़ाउल खेला , जिस पर रेफ़री ने कुश्ती रोकी , और दोनों पहलवानो को खड़े हो पुनः कुश्ती चलाने के लिए कहा।  दोनों पहलवान इस तरह एक दूसरे को तोलते हुए जोर लगाते तो दर्शक शोर मचा कर उनका जोश दुगना कर देते।  समय खत्म होने पर रेफ़री ने कुश्ती रोकी , इस तरह दोनों पहलवान बराबरी पर छूटे।  इस प्रकार दिव्या सैन ने अपने से बड़े व् ज्यादा वजनी पहलवान के साथ कुश्ती दिखा कर दर्शकों को चकित कर दिया।  





Comments from my Youtube Channel ansuia1974


ALL COMMENTS (2)
Share your thoughts

Stream

ansuia1974 shared this 

1 year ago
 
Reply
 · 
3








No comments:

Post a Comment