Welcome

Welcome
Diya Sain is India's one of the best Indian Women Kushti wrestler of present day scoring 60 medals at a short span. She is from a family of wrestlers. Her father Suraj Pahalwan and Grand father Sh. Rajinder Singh of Village Purbalian, District Mujaffar Nagar Uttar Pardesh , were also very fine wrestlers of their time. Suraj Pahlwan wanted to make his son Dev Sain a good wrestler. Divya followed on the footsteps of her brother at a very young age . Although from a fortune less family , she went on to become a champion in India.

Wednesday, December 24, 2014

Divya Sain - Family

This is a file photo of wrestler Divya Sain 's parents. As you can see both are preparing traditional Indian Wrestling costumes , by which they get a meagure income to support the whole family. Divya Sain has sat standards for the women wrestlers , and did well , however the source of income of the family remained unchanged . With their economic position growing weaker as days passed and the expenses on her training and food rising , the parents handed over a letter to the Hon. Sh. Mulayam Singh Yadav ji, SP Supremo , and also reached to its clan, everybody promised to help , yet there is nothing concreted happened in this regard. There are helping funds, awards, or donations for sports person , but Divya;s name doesn't figure out anywhere . I wish the Govt help her achieving her dream of winning an Olympic Medal. 


 ये दिव्या सैन के माता पिता का एक चित्र हैं। आप देख सकते हैं की दोनों मिलकर पहलवानो के लिए कस्टम तैयार कर रहे हैं। रोजगार और आय का यह स्रोत यूँ तो नाकाफी हैं , लेकिन इसी आय पर दिव्या के माता -पिता ने उन्हें पहलवान बनाया। दिव्या ने कुश्ती के क्षेत्र में कीर्तिमान तो स्थापित कर दिए लेकिन आय और रोजगार के साधन आज भी जस के तस हैं। ऐसा नहीं हैं की इस परिवार ने मदद की गुहार नहीं की। खेल जगत , सैन - बिरादरी हो या उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री , सबने आश्वासन दिए। सैन - बिरादरी ने तो अनेकों जगह सम्मान किये और दिव्या की तारीफों के पुल बाँध दिए लेकिन वहाँ से भी दिव्या खाली हाथ लौटी। आज भी इस परिवार का निर्वाह कठिनाइयों में ही हो रहा हैं , आज भी उन्हें , सरकार द्वारा दिए आश्वासनों के पूरा होने का इंतज़ार हैं। खेल और खिलाडियों और संस्थाओं को मिलने वाले अवार्ड , सहायता राशि , दान इत्यादि में आज कहीं भी दिव्या सैन का नाम नहीं दीखता। हरयाणा सरकार ने तो पहलवानो के लिए बहुत कुछ किया। बेहतरीन खेल रहे इस खिलाड़ी के लिए सरकार को अवश्य कुछ करना चाहिए। कौन जाने की ओलिंपिक मेडल पाने की ख़्वाहिश लिए ये खिलाडी , गुमनामी के काले अंधेरों में न गुम हो जाए।
























No comments:

Post a Comment