Welcome

Welcome
Diya Sain is India's one of the best Indian Women Kushti wrestler of present day scoring 55 medals at a short span. She is from a family of wrestlers. Her father Suraj Pahalwan and Grand father Sh. Rajinder Singh of Village Purbalian, District Mujaffar Nagar Uttar Pardesh , were also very fine wrestlers of their time. Suraj Pahlwan wanted to make his son Dev Sain a good wrestler. Divya followed on the footsteps of her brother at a very young age . Although from a fortune less family , she went on to become a champion in India.

Wednesday, December 24, 2014

Man Vs Women : Divya Sain fights at Khedi Pul Dangal - Distt Fareedabad, Haryana.

शीशपाल पहलवान गुरु जसराम जी के शिष्य हैं। अपने क्षेत्र में खेलों को बढ़ावा देने के लिए वे प्रतिवर्ष एक विशाल दंगल कराते हैं। इस दंगल में दूर दराज के पहलवान भाग लेते हैं। इससे जनता का तो मनोरंजन होता ही हैं साथ साथ युवा वर्ग का खेलों के प्रति रुझान बढ़ता हैं। शीशपाल पहलवान दंगल में अनेकों अनेक कुश्तियां कराते हैं और साथ ही पहलवानो को बढ़िया इनाम भी देते हैं। महिला पहलवानो को भी इस प्रतियोगिता में आमंत्रित किया जाता हैं। दिव्या सैन से कुश्ती लड़ने जब कोई महिला पहलवान आगे नहीं आई तो शीशपाल पहलवान ने कहा दिव्या सैन को बिना कुश्ती लड़े नहीं भेजना , इनसे यदि चाहे तो कोई पुरुष पहलवान भी लड़ सकता हैं। एक पहलवान ने आकर दिव्या सैन से हाथ मिलाया। हालांकि वह दिव्या सैन से उम्र व् वजन में भी ज्यादा दिखा , लेकिन दिव्या ने बहादुरी से लड़ना शुरू किया। पहलवान ने अटैक लगाया , दिव्या सैन अखाड़े से बाहर गिरी और फिर तेजी से उठकर अखाड़े में लौटी , इस बार दोनों पहलवान एक दूसरे को तौलते हुए दांव लगाने का प्रयास करने लगे , पुरुष पहलवान ने दिव्या सैन के कन्धों पर अपने दोनों से हाथों से जोर दिया , ये कुश्ती में फ़ाउल हैं , रेफ़री ने कुश्ती रोककर दुबारा चालू करने की आज्ञा दी। दिव्या सैन ने इस बार अटैक लगाया , पट खींचे और बेलनी दांव पर अपने प्रतिद्वंदी को चित्त करने का प्रयास किया , लेकिन पहलवान ने शानदार बचाव किया , इसी बीच दिव्या सैन ने पुनः प्रयास किया , और रोलिंग कलाजंग दांव पर अपने प्रतिद्वंदी पहलवान को आसमान दिखा दिया। दर्शकों ने दिव्या सैन का तालियां बजा कर उत्साह वर्धन किया। दंगल कमिटी , ने नकद 11000 /- रूपये का पुरष्कार देकर दिव्या सैन को सम्मानित किया। 

 Sheeshpal Pahlwan is a veteran wrestler, he is a disciple of Guru Jasram ji. Every year he organizes a traditional wrestling competition to promote sporting culture in his town. Wrestler from different and far away places come and participate in the competition . He not only put a very good show of big wrestlers but also pay good cash prizes to winning wrestlers. Even women wrestlers are invited in this competition. Divya sain who remained unchallenged in this competition was announced that men can also come and fight with her. A local boy came and challenged Divya Sain, who accepted the challenge. The kushti match began with much fanfare, Divya was thrown out of the ring by her opponent , soon she came inside and started fighting. The opponent used a false move and instantly warned by referee. Then Divya Sain used a technique but countered , again with lightning speed she used rolling fireman's carry and won the match. The Dangal committee suitably rewarded Divya Sain, along with the watching crowed.







Comments from my youtube Channel  ansuia1974


ALL COMMENTS (5)

Share your thoughts

Stream


i think he should have won
Translate
Reply
 · 

Reply
 · 

The girl is immensely talented..Govt should sponsor her..

What's her age?

This looks to be a promotional video favouring the girl wrestler instead of the wresting clip. I am surprised that such clip is coming from a person of very high repute. However if that be the case, le there be such clips for young boys also.



No comments:

Post a Comment